fbpx

Tag Archives: tourism

When we talk about tourism, we mostly see it as a thing which is full of positives. We see it as something which brings prosperity to a place. Something which provides locals with an opportunity to earn money and sustain and support their livelihood. When we see it from a traveler’s perspective we focus on them being able to experience a new place which they don’t usually get to see often. We normally think that it is a win-win situation for everyone involved. However, it is not the whole image. With several pros, it also brings tons of cons too. Cons, if we had to discuss are such as polluting the environment, ruining the normal lifestyle and traditions of a place and a run for the unsatisfying amount of money which never seems to be enough. You ask why do I say that? Okay, let me break it down for…

Read more

हिमाचल प्रदेश भारतीय संघ के पहाड़ी राज्यों में से एक है। 70 लाख की आबादी होने की वजह से हर जगह संसाधनों को वितरित करना और उन स्थानों की यात्रा करने के लिए उचित परिवहन अवसंरचना आवश्यक है। हिमाचल प्रदेश के लोगों के लिए बसें परिवहन के मुख्य माध्यमों में से एक हैं। अब दोनों सार्वजनिक और निजी बसें दूर-दूर के क्षेत्रों तक पहुंच रही हैं और इन स्थानों की अर्थव्यवस्था को चलाने के लिए वे काफी महत्वपूर्ण हैं। इसलिए आज हम एचआरटीसी: हिमाचल रोडवेज ट्रांसपोर्ट कॉरपोरेशन के बारे में बात करेंगें। तो आइए जानते हैं एचआरटीसी के बारे में यह 10 बातें: 1. एचआरटीसी का नारा सुरक्षित सेवा, विनम्र सेवा है। 2. निगम को संयुक्त रूप से पंजाब सरकार, हिमाचल प्रदेश और रेलवे द्वारा 1958 में मंडी-कुल्लू रोड ट्रांसपोर्ट कॉरपोरेशन द्वारा स्थापित किया गया था। 3. 2 नवंबर 1974 को, निगम पूरी तरह से हिमाचल प्रदेश की सरकार को सौंप…

Read more

राष्ट्रीय हरित अधिकरण(NGT) ने पिछले कल हिमाचल प्रदेश के कुल्लू और मनाली शहर में 1700 से अधिक होटल, लॉज और होमस्टेस का निरीक्षण करने के लिए एक समिति की स्थापना की। एनजीटी अध्यक्ष न्यायमूर्ति स्वतंत्र कुमार की अध्यक्षता में राज्य पर्यटन विभाग और हिमाचल राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के वरिष्ठ अधिकारी, शिमला स्थित हिमालयी अध्ययन संस्थान, कुल्लू और मनाली के एसडीएम और आबकारी विभाग के एक प्रतिनिधि से वरिष्ठ समिति का गठन किया। “उपरोक्त समिति अगले हफ्ते सोमवार से जांच शुरू कर देगी और सभी होटल, लॉज और होमस्टेस का निरीक्षण करेगी। बेंच ने कहा, “हालांकि वे ऐसे पहले होटलों के साथ आगे बढ़ेंगे जिनमें किसी भी श्रेणी में 25 से अधिक कमरे हैं।” ग्रीन पैनल ने पैनल को निर्देश दिया कि वे संयुक्त निरीक्षण करें और पानी के स्रोत, ठोस कचरे के प्रबंधन, सीवेज उपचार संयंत्र, बिजली के स्रोत और बिजली के उत्पादन के बारे में एक व्यापक रिपोर्ट जमा…

Read more

जोत पहाड़ो का राजा:- अगर शिमला पहाड़ो की रानी है तो जोत पहाड़ो का राजा है। “जोत” पहाड़ी बोली का शब्द है हिंदी में इसे दर्रा और अंग्रेजी में पास कहा जाता है। हिमाचल में बहुत से दर्रे हैं परंतु जिला चम्बा में भट्टियात और चम्बा को मिलाने वाला जोत बहुत प्रसिद्ध है। हिमाचल को कुदरत ने बेपनाह खूबसूरती बख्शी है। और पहाड़ो की ऊंची चोटियों पर देवदार के वृक्षों में पड़े वर्फ़ के फाहों में जब आप मस्ती में झूम जाओ तो समझो आप हिमाचल की खूबसूरत धरती का आनंद उठा रहे हो। कुछ ऐसा ही नजारा है जोत का भी। जोत का नाम:- वैसे तो जोत अब इसी नाम से मशहूर हो चुका है परंतु इसके असली नाम “वसोदन” जोत है। परन्तु बहुत कम लोग इस नाम से परिचित हैं। स्थान:- जोत समुद्र तल से 2300 मीटर की ऊंचाई पर एक सुंदर पर्यटन स्थल है। यह स्थान चुवाड़ी से…

Read more

Life is like a gift and it depends upon us how we live it. Like a dialogue from some Shah Rukh Khan‘s movie goes, “We only live once, we also die once and we only love once“. Well, I am not sure about the love thing but we certainly can travel more than once. It is the best thing to do as you get to experience new places, cultures, cuisines, climatic and weather conditions and feeling of endless joy. All the problems in life seem so small when we travel to a place we love. If you visit Himachal Pradesh, there are so many places for people of different age groups and one can decide and can experience a particular part of it accordingly. But travelling must not be taken lightly and the idea should not be restricted to just reach the destination. One must be prepared well to face…

Read more

5/5