fbpx

Tag Archives: Prem Kumar Dhumal

हिमाचल में विधानसभा चुनाव में बीजेपी को बहुमत  प्राप्त हुआ है, साथ ही बीजेपी के मुख्यमंत्री पद के चेहरे प्रेम कुमार धूमल अपनी सीट से हार चुके हैं। इसी के साथ ही बीजेपी में हिमाचल प्रदेश के नए मुख्यमंत्री के नाम को लेकर अभी तक संशय था। जीत के चार दिन बाद भी अभी तक मुख्यमंत्री के नाम पर सहमति नही बना पाई। हिमाचल पार्टी प्रभारी मंगल पांडेय ने पिछले ही शिमला में भाजपा विधायक दल के साथ  बैठक की। इस बैठक में बीजेपी पार्टी हाई कमान कि और से पार्टी पर्यवेक्षक निर्मला सीतारमण और केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर भी उपस्थित थे , वहीं प्रेम कुमार धूमल ने जय राम ठाकुर के नाम पर सहमति जताई गई थी। हालांकि सीएम पद कि रेस में सबसे आगे नाम जय राम ठाकुर का चल रहा था। पांच दिन के बाद आखिरकार बीजेपी ने मुख्यमंत्री के नाम का ऐलान कर दिया गया।…

Read more

हिमाचल में विधानसभा चुनाव में बीजेपी को बहुमत  प्राप्त हुआ है, साथ ही बीजेपी के मुख्यमंत्री पद के चेहरे प्रेम कुमार धूमल अपनी सीट से हार चुके है और इसी के चलते ही बीजेपी में हिमाचल प्रदेश के नए मुख्यमंत्री के नाम को लेकर अभी भी संशय गहरा रहा है। हिमाचल में पार्टी की जीत के चार दिन बाद भी अभी तक मुख्यमंत्री के नाम पर सहमति नही बन पाई है। हिमाचल पार्टी प्रभारी मंगल पांडेय ने आज शिमला में भाजपा विधायक दल के साथ बैठक करेंगे। बीजेपी पार्टी हाई कमान की ओर से पार्टी पर्यवेक्षक निर्मला सीतारमण और केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के भी शिमला पहुंचने की संभावना है लेकिन उनके आने की कोई भी सूचना पार्टी कार्यालय शिमला को नहीं मिली है। वहीं प्रेम कुमार धूमल ने जय राम ठाकुर के नाम पर सहमति जताई। पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल ने जय राम ठाकुर के समीरपुर स्थित आवास में आधा…

Read more

कांग्रेस पार्टी को आज चुनाव में हार का सामना करना पड़ा। जब वीरभद्र सिंह से पूछा गया कि आप इस हार के लिए किसे जिम्मेदार मानते हैं तो उन्होंने कहा कि यह सब चुनाव प्रचार में कमियों के कारण हुआ है उसके विपरीत बीजेपी ने पूरी जोर शोर से अपना प्रचार किया। उन्होंने यह भी कहा कि मुझसे जितना बनता था वो मेने अकेले ही किया। यह सब मेरी नेतृत्व में हुआ है तथा मैं इसकी जिम्मेदारी लेता हूं। हमारा मानना है कि कहीं ना कहीं इन 4 कारणों की वजह से कांग्रेस पार्टी को हार का सामना करना पड़ा है। आइए जानते क्या है वह कारण: 1. चुनाव प्रचार में कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी का नाम मात्र योगदान होना। चुनाव प्रचार में वीरभद्र सिंह जिनकी उम्र 83 साल है ने अकेले ही प्रदेश भर में रैलियों के द्वारा चुनाव में जीतने की उम्मीद से संघर्ष किया।…

Read more

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हिमाचल प्रदेश मे कुल 50,25,941 मतदाता हैं तथा निर्वाचन क्षेत्रों की कुल संख्या 68 है। अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों के लिए 20 सीट आरक्षित हैं। एससी के लिए आरक्षित 17 सीट, एसटीएस 3 के लिए आरक्षित हैं। Image Source  हिमाचल प्रदेश की 68 विधानसभा सीटों के लिए 337 उम्मीदवारों में से कुल 19 महिलाएं इस बार चुनाव मैदान में उतरे थे। 337 उम्मीदवारों में से 112 स्वतंत्र उम्मीदवार थे। हिमाचल प्रदेश में प्रतिस्पर्धा तो सत्तारूढ़ कांग्रेस पार्टी और भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के बीच ही थी। News Source :- DD National अभी तक सभी न्यूज़ चैनल भाजपा को आगे बता रहे हैं तथा संकेत दे रहे हैं की पूर्ण बहुमत से भाजपा की सरकार हिमाचल प्रदेश में बनेगी। Image Source :- The Hindu   Image Source Election Commition India   Image Source News18india अभी सूत्रों से पता चला है की कांग्रेस तथा भाजपा ने 2-2…

Read more

याद हो कि 9 नवंबर को हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव में 74 प्रतिशत मतदाता ने मतदान हुआ था। हिमाचल में भाजपा ने भ्रष्टाचार के मुद्दे पर वीरभद्र सिंह की अगुवाई वाली कांग्रेस सरकार को सत्ता से बेदखल करने की मांग की थी और अभी तक आए सभी सर्वे से ऐसा प्रतीत भी हो रहा है। Image Source  हिमाचल प्रदेश मे कुल 50,25,941 मतदाता हैं।हिमाचल प्रदेश के विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र की कुल संख्या 68 है। अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों के लिए 20 सीट आरक्षित हैं। एससी के लिए आरक्षित 17 सीट, एसटीएस 3 के लिए आरक्षित हैं। Image Source  हिमाचल प्रदेश की 68 विधानसभा सीटों के लिए 337 उम्मीदवारों में से कुल 19 महिलाएं इस बार चुनाव मैदान में हैं। 337 उम्मीदवारों में से 112 स्वतंत्र उम्मीदवार हैं। हिमाचल प्रदेश में मुख्य चुनाव सत्तारूढ़ कांग्रेस पार्टी और भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के बीच है। Image Source  जहां कांग्रेस ने अपने मुख्यमंत्री पद के…

Read more

Image Source हिमाचल प्रदेश भाजपा ने रविवार को विश्वास व्यक्त किया कि पार्टी विधानसभा चुनावों में कम से कम 50 सीटें जीत सकती है और एक स्थिर सरकार बना सकती है। Image Source यह भी पढ़े। जानिए हिमाचल प्रदेश के 12 जिलों के प्रसिद्ध मंदिर तथा मठ के बारे में…… Image Source 9 अक्टूबर को हुए हिमाचल प्रदेश चुनावों के बाद की स्थिति की समीक्षा के लिए भाजपा की कोर समिति रविवार को हमीरपुर में बैठक हुई। Image Source यह भी पढ़े। ताज़ा बर्फबारी की वजह से देवभूमि के यह इलाके 6 महीने के लिए शेष दुनिया से कटे “हमने विभिन्न क्षेत्रों से प्रतिक्रिया प्राप्त करने के बाद चुनाव के बाद की स्थिति पर चर्चा की और कुछ जगहों पर प्रचार में हुई कटौती की रिपोर्टों पर चर्चा की लेकिन यह निष्कर्ष पर पहुंच गया कि पार्टी स्थिर सरकार बनाएगी और 68 में से 50 से अधिक सीट जीत सकती है,”…

Read more

9 नवंबर को हुए हिमाचल प्रदेश के विधानसभा चुनावों के दौरान हुए रिकॉर्ड मतदान से कांग्रेस के और भाजपा के वरिष्ठ नेताओं को जबरदस्त परिणाम की अपेक्षा हैं। बीजेपी के मुख्यमंत्री उम्मीदवार होने की वजह से प्रेम कुमार धूमल को कांग्रेस के वीरभद्र सिंह से कड़ा मुक़ाबले सामना करना पड़ा। इस बार मतदाताओं की संख्या पिछले चुनाव से ज्यादा थी जब उन्होंने वहां सीट जीती थीं। अर्की विधानसभा क्षेत्र जहां वीरभद्र सिंह ने चुनाव लड़ा था, वहां 74.36% मतदाताओं ने अपना मत दिया। इससे पहले, सबसे ज्यादा मतदान 73.46% था। प्रेम कुमार धूमल के विधानसभा क्षेत्र सुजानपुर में मतदान का औसत 74.07% था, जबकि पिछले चुनाव में सर्वोत्तम 69.33% था। यह कहा जा रहा है कि जहां से भारी मतदान हुआ है वहां इस बार प्रतियोगियों के बीच मुक़ाबला टक्कर का होगा। 2012 के विधानसभा चुनाव में, राज्य में 72.69% मतदान हुआ, जबकि इस बार यह 74.61 के उच्चतम स्तर…

Read more

हिमाचल प्रदेश के पूर्व सीएम व वर्तमान चुनाव में सीएम उम्मीदवार प्रेम कुमार धूमल ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को लीगल नोटिस भेजा है। धूमल ने राहुल को भेजे गए नोटिस में 8 नवंबर तक माफी मांगने को कहा है। अगर राहुल ने धूमल से माफी नहीं मांगी तो उनके खिलाफ आपराधिक मानहानि का केस करने की  धूमल ने बात कही है। यह मामला एक चुनावी रैली में राहुल द्वारा धूमल के ऊपर लगाए गए आरोपों के कारणवश है। राहुल गांधी ने चंबा व कांगड़ा के नगरोटा की जनसभाओं में आरोप लगाया था कि प्रेम कुमार धूमल ने सरकारी जमीन को हड़पा है और इसी कारण उनके बेटे अनुराग ठाकुर को बीसीसीआई से हटाया गया। इस तरह के आरोपों से हिमाचल में सियासत गरमा गई है। प्रदेश भर में नेता एक-दूसरे पर भ्रष्टाचार के तीखे आरोप लगा चुके हैं। इनमें से जो आरोप सही नहीं है वह मानहानि के केस…

Read more

हिंदुस्तान टाइम्स अखबार के साथ हुई बातचीत में प्रोफेसर प्रेम कुमार धूमल ने कहा कि उनकी सर्वोच्च प्राथमिकता कानून और व्यवस्था बहाल होगी, जो उनके मुताबिक वीरभद्र सिंह की अध्यक्षता वाली कांग्रेस सरकार के तहत पिछले पांच वर्षों में बदतर हो गई है। उनका कहना है कि प्रधानमंत्री मोदी की पूरे राज्य में चुनाव रैलियों के साथ, जनता का मन ही ऐसा है कि कांग्रेस का सफाया हो जाएगा। वीरभद्र शासन भ्रष्टाचार और गलत प्रशासन का प्रतीक है और लोगों ने इसे उखाड़ फेंकने का फैसला किया है। कांग्रेस पार्टी के किसी भी बड़े नेता के हिमाचल प्रदेश में प्रचार के नाम आने पर धूमल ने कहा कि कांग्रेस पार्टी पहले ही हार मान चुकी है और हार का सारा ठीकरा वीरभद्र सिंह के सिर फोड़ेगी। जब उनसे पूछा गया कि क्या उन्हें अपनी पार्टी में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा और पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार के प्रति अपनी पार्टी…

Read more

  Image Source पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल ने मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के बयान, जिसमें उन्होंने कहा था कि भाजपा 60 सीटें जीतेगी तो मैं राजनीति छोड़ दूंगा, पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि मुख्यमंत्री जी भागने वाले को भगौड़ा कहते हैं और अगर आप ऐसे ही राजनीति छोड़ देंगे तो जनता आपसे हिसाब कैसे लेगी। पूर्व मुख्यमंत्री हमीरपुर विस क्षेत्र की सासन पंचायत में दलित सम्मेलन में भाग लेने के उपरांत प्रैस वार्ता को संबोधित कर रहे थे। इससे पूर्व उन्होंने दलित के घर नीचे बैठकर भोजन किया। इस दौरान उनके साथ विधायक विजय अग्निहोत्री व प्रदेश भाजपा अनुसूचित जाति के अध्यक्ष डा. सिकंदर भी मौजूद रहे। Image Source मोदी सरकार के पैसे को बांट कर झूठी वाहवाही लूट रही कांग्रेस पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल  ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार हिमाचल को करोड़ों रुपए का बजट भेज रही है लेकिन प्रदेश की कांग्रेस सरकार केंद्र की मोदी…

Read more

10/10