जानिए हिमाचल प्रदेश की पर्वत श्रृंखलाओं तथा प्रमुख दर्रो के बारे में

हिमाचल प्रदेश की समुद्र तल से ऊंचाई 350 मीटर से 7,000 मीटर के बीच के लगभग है। हिमाचल प्रदेश को तीन प्रकार की पर्वत श्रृंखलाओं में बांटा गया है। 1. निम्न पर्वत श्रेणी – इस पर्वत श्रेणी को शिवालिक पर्वत के नाम से भी जाना जाता है। शिवालिक शब्द का अर्थ है शिव की जटाएं । इस क्षेत्र की समुद्र तल से ऊंचाई 350 मीटर से 1500 मीटर तक है। प्राचीन काल में शिवालिक पर्वत को मानक पर्वत के नाम से जाना जाता था। इस क्षेत्र में औसत वार्षिक वर्षा 1500…

Read More

30 वर्ष बाद मणिमहेश में हजारों शिव भक्तों ने लगाई डुबकी, जानिए वजह

Image Source मणिमहेश में 30 वर्ष बाद हजारों शिव भक्तों ने पवित्र झील में डुबकी लगाई है। कृष्ण जन्माष्टमी के अवसर पर झील में श्रद्धालुओं ने स्नान किया। झील में स्नान करने के लिए पिछले 3 दिनों मे उमड़े शिव भक्तों के जत्थे ने मंगलवार को पवित्र व गर्म पानी में स्नान किया। धार्मिक मान्यता है की रात 12 बजे कृष्ण भगवान के जन्म होने के बाद इस स्नान का महत्व शुरू होता है जो मंगलवार शाम 7 बजे तक जारी रहेगा। दैनिक अखबार पंजाब केसरी के अनुसार 30 वर्षों…

Read More

10 Instagram accounts that will give you a reason to visit Himachal time and again

“A picture is worth a thousand words”. It refers to the notion that a complex ideas and stories can be conveyed with just a single still image or that an image of a subject conveys its meaning or essence more effectively than a description does. So here is the list of “10 Instagram accounts that will give you a reason to visit Himachal time and again“. They are listed in a random order and all of them are very unique and the only thing common between each one of them…

Read More

हिमाचल प्रदेश की पांच मुख्य जनजातियां

हिमाचल प्रदेश की जनसंख्या में यह 5 जनजातियों का भी अपना ही स्थान तथा महत्व है। हिमाचल प्रदेश की पांच मुख्य जनजातियों में किन्नर, लाहौली, गद्दी, पंगवाल और गुज्जर आते हैं। तो आइए विस्तार में जानते हैं हिमाचल प्रदेश की पांच मुख्य जनजातियों के बारे में। 1)किन्नर जनजाति Image Source किन्नर जनजाति किन्नौर जिले से संबंध रखती है। किन्नर मुख्यत कृषक है जो जन्म से मृत्यु तक के संस्कारों को पूरा करने के लिए यह लोग लामा की सहायता लेते हैं। इनमें बहुपति प्रथा प्रचलित है। यह लोग बौद्ध धर्म को मानते हैं। 2)…

Read More

22 Facts about Kinnaur district that you probably don’t know

Kinnaur is one of twelve administrative districts in the Indian state of Himachal Pradesh. With an area of 6,401 km² and population roughly close to 85000, Kinnaur is second least populous district of Himachal Pradesh. Surprisingly, there are nine vital languages are spoken in the district. The district is divided into three administrative areas – Pooh, Kalpa, and Bhaba Nagar and has five tehsils. The administrative headquarters of Kinnaur district is at Reckong Peo. It has two high mountains ranges, namely, Zanskar and Himalayas that enclose valleys of Sutlej, Spiti, Baspa and their tributaries. The old Hindustan–Tibet Road…

Read More