fbpx

Tag Archives: Elections

कांग्रेस पार्टी को आज चुनाव में हार का सामना करना पड़ा। जब वीरभद्र सिंह से पूछा गया कि आप इस हार के लिए किसे जिम्मेदार मानते हैं तो उन्होंने कहा कि यह सब चुनाव प्रचार में कमियों के कारण हुआ है उसके विपरीत बीजेपी ने पूरी जोर शोर से अपना प्रचार किया। उन्होंने यह भी कहा कि मुझसे जितना बनता था वो मेने अकेले ही किया। यह सब मेरी नेतृत्व में हुआ है तथा मैं इसकी जिम्मेदारी लेता हूं। हमारा मानना है कि कहीं ना कहीं इन 4 कारणों की वजह से कांग्रेस पार्टी को हार का सामना करना पड़ा है। आइए जानते क्या है वह कारण: 1. चुनाव प्रचार में कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी का नाम मात्र योगदान होना। चुनाव प्रचार में वीरभद्र सिंह जिनकी उम्र 83 साल है ने अकेले ही प्रदेश भर में रैलियों के द्वारा चुनाव में जीतने की उम्मीद से संघर्ष किया।…

Read more

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हिमाचल प्रदेश मे कुल 50,25,941 मतदाता हैं तथा निर्वाचन क्षेत्रों की कुल संख्या 68 है। अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों के लिए 20 सीट आरक्षित हैं। एससी के लिए आरक्षित 17 सीट, एसटीएस 3 के लिए आरक्षित हैं। Image Source  हिमाचल प्रदेश की 68 विधानसभा सीटों के लिए 337 उम्मीदवारों में से कुल 19 महिलाएं इस बार चुनाव मैदान में उतरे थे। 337 उम्मीदवारों में से 112 स्वतंत्र उम्मीदवार थे। हिमाचल प्रदेश में प्रतिस्पर्धा तो सत्तारूढ़ कांग्रेस पार्टी और भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के बीच ही थी। News Source :- DD National अभी तक सभी न्यूज़ चैनल भाजपा को आगे बता रहे हैं तथा संकेत दे रहे हैं की पूर्ण बहुमत से भाजपा की सरकार हिमाचल प्रदेश में बनेगी। Image Source :- The Hindu   Image Source Election Commition India   Image Source News18india अभी सूत्रों से पता चला है की कांग्रेस तथा भाजपा ने 2-2…

Read more

याद हो कि 9 नवंबर को हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव में 74 प्रतिशत मतदाता ने मतदान हुआ था। हिमाचल में भाजपा ने भ्रष्टाचार के मुद्दे पर वीरभद्र सिंह की अगुवाई वाली कांग्रेस सरकार को सत्ता से बेदखल करने की मांग की थी और अभी तक आए सभी सर्वे से ऐसा प्रतीत भी हो रहा है। Image Source  हिमाचल प्रदेश मे कुल 50,25,941 मतदाता हैं।हिमाचल प्रदेश के विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र की कुल संख्या 68 है। अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों के लिए 20 सीट आरक्षित हैं। एससी के लिए आरक्षित 17 सीट, एसटीएस 3 के लिए आरक्षित हैं। Image Source  हिमाचल प्रदेश की 68 विधानसभा सीटों के लिए 337 उम्मीदवारों में से कुल 19 महिलाएं इस बार चुनाव मैदान में हैं। 337 उम्मीदवारों में से 112 स्वतंत्र उम्मीदवार हैं। हिमाचल प्रदेश में मुख्य चुनाव सत्तारूढ़ कांग्रेस पार्टी और भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के बीच है। Image Source  जहां कांग्रेस ने अपने मुख्यमंत्री पद के…

Read more

गुजरात में पद्मावती फिल्म के रिलीज होने पर रोक लगा दी गई है। गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपानी का कहना है कि चुनाव के चलते यह निर्णय लेना पड़ा। विजय रुपानी का कहना है कि “यह आशंका है कि पद्मावती फिल्म में इतिहास के साथ छेड़छाड़ की गई है तथा इससे क्षत्रिय तथा राजपूत समुदाय के लोग काफी नाराज़ है। इन समुदायों की भावनाओं की कद्र करते हुए तथा चुनाव में किसी भी तरह का बवाल ना हो तो गुजरात सरकार ने यह निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि इसके अलावा कानून और व्यवस्था भी हमारी जिम्मेदारी है, इसलिए हमने फैसला किया है कि हम गुजरात में फिल्म ‘पद्मवती’ को रिलीज करने की इजाजत नहीं देंगे। ” रूपानी ने यह भी कहा कि प्रतिबंध केवल दिसंबर में होने वाले विधानसभा चुनाव तक ही सीमित नहीं है, लेकिन “जब तक फिल्म से जुुड़ा विवाद सुलझ ना जाएं”। इससे पहले, मध्य प्रदेश के…

Read more

13वी विधानसभा चुनाव में पिछले सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए। इस चुनाव में करीब 50 लाख मतदाताओं में से 37 लाख मतदाताओं ने अपने अधिकार का इस्तेमाल किया। जो कि लगभग 75% रहा। इस चुनाव में 337 उम्मीदवारों ने अपनी किस्मत आजमाइए। कुछ मतदान केंद्रों पर शाम 5 बजे के बाद भी मतदाताओं की कतारें देखने को मिली। वहीं कुछ जगहो पर ईवीएम में गड़बडी के कुछ मामले सामने आए। जानिए हर जिले में कितना प्रतिशत मतदान हुआ: सिरमौर जिला में प्रदेश में सबसे अधिक 82% मतदान हुआ। सोलन में 77.4% ऊना 76% कुल्लू 77.% किन्नौर 75% बिलासपुर 75% चंबा 74% मंडी 75% शिमला 72.5% लाहौल स्पीति 73.4% कांगड़ा 72% हमीरपुर 69.50% लगाता समाचार पाने के लिए हमारे facebook group onehimachal से जुड़िए । जनता का चुनाव में इतना बढ़-चढ़कर भाग लेना एक जागरूक समाज की निशानी है। लोगों को यह भली-भांति पता है कि उनके मत का कितना महत्व है। अब देखना…

Read more

हिंदुस्तान टाइम्स अखबार के साथ हुई बातचीत में प्रोफेसर प्रेम कुमार धूमल ने कहा कि उनकी सर्वोच्च प्राथमिकता कानून और व्यवस्था बहाल होगी, जो उनके मुताबिक वीरभद्र सिंह की अध्यक्षता वाली कांग्रेस सरकार के तहत पिछले पांच वर्षों में बदतर हो गई है। उनका कहना है कि प्रधानमंत्री मोदी की पूरे राज्य में चुनाव रैलियों के साथ, जनता का मन ही ऐसा है कि कांग्रेस का सफाया हो जाएगा। वीरभद्र शासन भ्रष्टाचार और गलत प्रशासन का प्रतीक है और लोगों ने इसे उखाड़ फेंकने का फैसला किया है। कांग्रेस पार्टी के किसी भी बड़े नेता के हिमाचल प्रदेश में प्रचार के नाम आने पर धूमल ने कहा कि कांग्रेस पार्टी पहले ही हार मान चुकी है और हार का सारा ठीकरा वीरभद्र सिंह के सिर फोड़ेगी। जब उनसे पूछा गया कि क्या उन्हें अपनी पार्टी में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा और पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार के प्रति अपनी पार्टी…

Read more

आज कांगड़ा में जनता को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने काफी विषयों पर चर्चा की। उन्होंने कांग्रेस के नेताओं को आत्मचिंतन करने को कहा तथा हिमाचल प्रदेश की जनता से कांग्रेस मुक्त भारत के उनके लक्ष्य में सहयोग करने का आग्रह किया। पर उनके भाषण का सबसे दिलचस्प भाग वह था जिसमें उन्होंने हिमाचल को बर्बाद कर रहे 5 दानवों के बारे में बात की। जानिए कौन हैं वह 5 दानव 1. खनन माफिया हिमाचल प्रदेश में अपार मात्रा में प्राकृतिक संसाधन उपलब्ध हैं। काफी समय से इन संसाधनों का दुरूपयोग किया गया है जिसमें खनन माफिया का सबसे बड़ा हाथ है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि यह भू  संपदा को लूूट रहे हैं तथा इसे जड़ से उखाड़ फेंकना है। 2. वन माफिया मोदी जी ने वन माफिया को भी आड़े हाथों लिया और कहा कि यह सब वन संपदा को लूट रहे हैं। हिमाचल प्रदेश के…

Read more

Image Source सार्वजनिक मंच पर हिमाचल विधानसभा चुनाव न लड़ने का ऐलान कर चुके मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह को लेकर हिमाचल के कांग्रेस प्रभारी सुशील कुमार शिंदे ने बड़ा बयान दिया है। दैनिक अखबार अमर उजाला की खबर के अनुसार शुक्रवार को कांगड़ा एयरपोर्ट पहुंचने पर कांग्रेस प्रभारी शिंदे ने एलान किया कि वीरभद्र स‌िंह चुनाव जरूर लड़ेंगे। ऐसे में ये अटकलें तेज हो गई है क‌ि क्या सीएम वीरभद्र स‌िंह चुनाव लड़ेंगे या अपनी बात पर टिके रहेंगे। हालांक‌ि जब सीएम ने चुनाव न लड़ने का एलान किया था तब उन्होंने ये भी कहा था क‌ि यद‌ि हाईकमान दबाव डालेगी तो वे चुनाव लड़ सकते हैं। Image Source शिंदे के इस बयान के बाद सवाल ये भी है कि क्या CM शिमला ग्रामीण से चुनाव लड़ेंगे या फिर किसी विधानसभा क्षेत्र से। क्योंक‌ि इस बार वीरभद्र सिंह के पुत्र और युवा कांग्रेस अध्यक्ष विक्रमादित्य ‌‌स‌िंह को भी चुनावी मैदान में…

Read more

केंद्र की मोदी सरकार ने हिमाचल के उद्योगों के we लिए टैक्स रियायत 10 साल के लिए बढ़ाई है। इसका फायदा प्रदेश के करीब हजार उद्योगों को मिलेगा। जिन उद्योगों को केंद्रीय आबकारी शुल्क में 31 मार्च 2017 तक छूट दी जा रही थी, जीएसटी लागू होने के बाद उन्हें सीजीएसटी और आईजीएसटी में छूट दी गई है। दैनिक समाचार पत्र अमर उजाला की खबर के अनुसार यह छूट जुलाई 2017 से मार्च 2027 तक मिलेगी। जीएसटी लागू होने के बाद जिन उद्योगों से सीजीएसटी और आईजीएसटी लिया गया है, उन्हें रिफंड किया जाएगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में आर्थिक मामलों की कैबिनेट कमेटी ने जम्मू एवं कश्मीर, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश और राज्य में स्थित उपयुक्त औद्योगिक इकाइयों के लिए  गुड्स और सर्विस कर व्यवस्था के तहत बजट सहायता प्रदान कर को मंजूरी दी है। इसी योजना में 10 साल के लिए कर छूट की व्यवस्था का प्रावधान किया…

Read more

  Image Source पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल ने मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के बयान, जिसमें उन्होंने कहा था कि भाजपा 60 सीटें जीतेगी तो मैं राजनीति छोड़ दूंगा, पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि मुख्यमंत्री जी भागने वाले को भगौड़ा कहते हैं और अगर आप ऐसे ही राजनीति छोड़ देंगे तो जनता आपसे हिसाब कैसे लेगी। पूर्व मुख्यमंत्री हमीरपुर विस क्षेत्र की सासन पंचायत में दलित सम्मेलन में भाग लेने के उपरांत प्रैस वार्ता को संबोधित कर रहे थे। इससे पूर्व उन्होंने दलित के घर नीचे बैठकर भोजन किया। इस दौरान उनके साथ विधायक विजय अग्निहोत्री व प्रदेश भाजपा अनुसूचित जाति के अध्यक्ष डा. सिकंदर भी मौजूद रहे। Image Source मोदी सरकार के पैसे को बांट कर झूठी वाहवाही लूट रही कांग्रेस पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल  ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार हिमाचल को करोड़ों रुपए का बजट भेज रही है लेकिन प्रदेश की कांग्रेस सरकार केंद्र की मोदी…

Read more

10/11