fbpx

Category Archives: Shimla

हिमाचल प्रदेश मेेें डीएलएड प्राइमरी स्कूल टीचरों के लिए अनिवार्य हो गया है जिससे सैकड़ों शिक्षकों के भविष्य पर खतरा मंडरा रहा है। गौरतलब रहे कि केंद्र सरकार की ओर से जारी की गई निर्धारित न्यूनतम योग्यता के लिए अध्यापकों को डीएलएड करना पड़ेगा। फिलहाल कई निजी और सरकारी स्कूल में पढ़ाने वाले शिक्षक इसे पूरा नहीं कर पा रहे हैं। Image Source डीएलएड करने के लिए योग्यता 12वी कक्षा में 50% अंक होना जरूरी है। जरूरी बात यह है  कि जो शिक्षक 30 नवंबर तक पंजीकरण नहीं करवाएंगे वह शिक्षक (सरकारी व निजी शिक्षक) मार्च 2019 के बाद स्कूलों में पढ़ा नहीं पाएंगे। केंद्र सरकार के आदेश के बाद 31 मार्च, 2019 के बाद से सरकारी व निजी स्कूलों में बिना डीएलएड किए कोई भी शिक्षक प्राथमिक कक्षाओं को नहीं पढ़ा सकेगा। Image Source गौरतलब रहे कि केंद्र सरकार ने बीते कई माह से डीएलएड के प्रति शिक्षकों को…

Read more

Image Source Tumuskura शिमला सर्दियों का सीजन शुरू होते ही बर्फबारी को देखने शिमला आने वाले पर्यटकों का तांता लग जाता है। इस बात को ध्यान में रखते हुए  रेलवे न पर्यटकों को खास तोफा दिया है। उत्तर रेलवेे अब पर्यटकों के लिए 2 नई ट्रेनें चलाएगा। इस खबर की पुष्टि उत्तर रेलवे के सोलन रेलवे स्टेशन मास्टर कमलेश चंद्र ने की है। स्टेशन मास्टर कमलेश चंद्र ने बताया कि यह 2 विशेष ट्रेन दिसंबर और जनवरी माह के बीच चलेगी। उन्होंने कहा कि करीब 15 दिसंबर से दोनों ट्रेनें सुचारू रूप से शुरू हो जाएंगी। Image Source हॉलीडे स्पेशल नाम से चलने वाली इन ट्रेनों क चलनेे के बाद शिमला -कालका रेलवे ट्रेक पर चलने वाली रेल गाड़ियों की संख्या 6 बढ़कर 8 हो जाएगी। जैसे ही  रेलगाड़ियों की संख्या में बढ़ोत्तरी होगी, वैसे वैसे इनके आवागमन के समय में भी बदलाव किए जाएंगे। Image Source गौरतलब है कि इस…

Read more

Image Source हिमाचल प्रदेश भाजपा ने रविवार को विश्वास व्यक्त किया कि पार्टी विधानसभा चुनावों में कम से कम 50 सीटें जीत सकती है और एक स्थिर सरकार बना सकती है। Image Source यह भी पढ़े। जानिए हिमाचल प्रदेश के 12 जिलों के प्रसिद्ध मंदिर तथा मठ के बारे में…… Image Source 9 अक्टूबर को हुए हिमाचल प्रदेश चुनावों के बाद की स्थिति की समीक्षा के लिए भाजपा की कोर समिति रविवार को हमीरपुर में बैठक हुई। Image Source यह भी पढ़े। ताज़ा बर्फबारी की वजह से देवभूमि के यह इलाके 6 महीने के लिए शेष दुनिया से कटे “हमने विभिन्न क्षेत्रों से प्रतिक्रिया प्राप्त करने के बाद चुनाव के बाद की स्थिति पर चर्चा की और कुछ जगहों पर प्रचार में हुई कटौती की रिपोर्टों पर चर्चा की लेकिन यह निष्कर्ष पर पहुंच गया कि पार्टी स्थिर सरकार बनाएगी और 68 में से 50 से अधिक सीट जीत सकती है,”…

Read more

Image Source  ब्रिक्स समूह ने हिमाचल प्रदेश की 31 पेयजल की लांबित स्कीमों को मंजूरी दी है। करीब तीन माह पहले भेजी गई इन 31 पेयजल स्कीमों के लिए 680 करोड़ रुपये स्वीकृत हुए हैं। हिमाचल प्रदेश में चुनाव के चलते अभी आचार संहिता लागू है। आचार संहिता खत्म होते ही हिमाचल प्रदेश सिंचाई एवं जनस्वास्थ्य विभाग इन सभी 31 पेयजल स्कीमों लिए टेंडर आमंत्रित करेगा। Image Source हिमाचल प्रदेश सिंचाई एवं जनस्वास्थ्य विभाग का मानना है कि इन स्कीमों के कार्यान्वित होने से हिमाचल प्रदेश के निचलेे मैदानी क्षेत्रों में पेयजल की समस्या काफी हद तक हल हो जाएगी । जब भी स्कीमों के टेंडर आमंत्रित किए जाएंगे तब ब्रिक्स समूह कुल राशि की 30 फीसदी बजट सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य विभाग को जारी करेगा और शेष बाकी बजट दूसरे चरण में जारी होगा। यह भी पढ़े। रोहतांग दर्रा अलगे साल तक गाड़ियों के लिए बंद। चंडीगढ़ में पारा…

Read more

9 नवंबर को हुए हिमाचल प्रदेश के विधानसभा चुनावों के दौरान हुए रिकॉर्ड मतदान से कांग्रेस के और भाजपा के वरिष्ठ नेताओं को जबरदस्त परिणाम की अपेक्षा हैं। बीजेपी के मुख्यमंत्री उम्मीदवार होने की वजह से प्रेम कुमार धूमल को कांग्रेस के वीरभद्र सिंह से कड़ा मुक़ाबले सामना करना पड़ा। इस बार मतदाताओं की संख्या पिछले चुनाव से ज्यादा थी जब उन्होंने वहां सीट जीती थीं। अर्की विधानसभा क्षेत्र जहां वीरभद्र सिंह ने चुनाव लड़ा था, वहां 74.36% मतदाताओं ने अपना मत दिया। इससे पहले, सबसे ज्यादा मतदान 73.46% था। प्रेम कुमार धूमल के विधानसभा क्षेत्र सुजानपुर में मतदान का औसत 74.07% था, जबकि पिछले चुनाव में सर्वोत्तम 69.33% था। यह कहा जा रहा है कि जहां से भारी मतदान हुआ है वहां इस बार प्रतियोगियों के बीच मुक़ाबला टक्कर का होगा। 2012 के विधानसभा चुनाव में, राज्य में 72.69% मतदान हुआ, जबकि इस बार यह 74.61 के उच्चतम स्तर…

Read more

जल्द ही शुरू होने वाली है चंडीगढ़ से शिमला तक की रोजाना हेलीकॉप्टर सेवा। Image Source  ज्ञात रहे अभी तक चंडीगढ़ से शिमला का कोई हवाई संपर्क नहीं है। कुछ समय पहले, एक निजी ऑपरेटर ने सेवाएं शुरू कर दी थीं।लेकिन वह सेवा लंबे समय तक जारी नहीं हो सकीं। चंडीगढ़ से शिमला तक की हवाई यात्रा का समय 25 मिनट के आसपास होने की उम्मीद है। चंडीगढ़ में आने वाले एक हफ्ते में शिमला से जुड़ने के लिए तैयार है। सरकारी हेलीकॉप्टर सेवा प्रदाता पवन हंस चंडीगढ़ अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे से रोजाना हेलीकॉप्टर सेवा शुरू करेगी । चंडीगढ़ से शिमला तक की हवाई यात्रा का समय लगभग 25 मिनट होने की उम्मीद है। IndianExpress के सूत्रों के मुताबिक 6 सीटर हेलीकॉप्टर रोजाना चंडीगढ़ हवाई अड्डे से संचालित होगा । एक अधिकारी ने बताया, “किराया लगभग 2600 रुपये प्रति ट्रिप होने की उम्मीद है।” पवन हंस सेवा का संचालन करेंगे। चंडीगढ़…

Read more

चूड़धार पर्वत हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले में स्थित है। चूड़धार पर्वत समुद्र तल से 11965 फीट(3647 मीटर) की ऊंचाई पर स्थित है । यह पर्वत सिरमौर जिले और बाहय हिमालय(Outer Himalayas) की सबसे ऊंची चोटी है। सिरमौर ,चौपाल ,शिमला, सोलन उत्तराखंड के कुछ सीमावर्ती इलाकों के लोग इस पर्वत में धार्मिक आस्था रखते हैं। चूड़धार को श्री शिरगुल महाराज का स्थान माना जाता है। यहां शिरगुल महाराज का मंदिर भी स्थित है। शिरगुल महाराज सिरमौर व चौपाल के देवता है।  चूड़धार कैसे पहुंचा जाए ? चूड़धार पर्वत तक पहुंचने के दो रास्ते हैं। मुख्य रास्ता नौराधार से होकर जाता है तथा यहां से चूड़धार 14 किलोमीटर है। दूसरा रास्ता सराहन चौपाल से होकर गुजरता है। यहां से चूड़धार 6 किलोमीटर है। मंदिर से जुड़ी मान्यता इस मंदिर के बनने के पीछे एक पुराणिक कहानी जुड़ी है‌। मान्यता है कि एक बार चूरू नाम का शिव भक्त, अपने पुत्र के…

Read more

Image Source पहाड़ों की रानी शिमला को स्मार्ट सिटी में जगह मिलने के बाद अब इसका प्रारूप तैयार करने को लेकर नगर निगम ने कसरत शुरू कर दी है। शिमला को स्मार्ट सिटी बनाने के लिए किन मूलभुत सुविधाओं की जरूरत है इसको लेकर शिमला में कार्यशाला का आयोजन किया गया गया। कार्यशाला का शुभारंभ हिमाचल प्रदेश सरकार के मुख्य सचिव वीसी फरका ने किया। स्मार्ट सिटी प्लान को तैयार करने में तीस फीसदी तक आम जनता से आए सुझावों पर अमल होगा। 50 सालों में राजधानी और ऐतिहासिक शहर शिमला कैसा दिखे, यहां क्या बुनियादी सुविधाएं मिले, इस पर संबंधित विभागों और स्वयं सेवी संस्थाओ के साथ कार्यशाला में सुझाव लिए जा रहे हैं। Image Source शिमला स्मार्ट सिटी का 2906 करोड़ रुपये का प्रोजेक्ट है जो की शिमला में पार्किंग, पानी के उचित वितरण, पैदल रास्तों, सुरक्षा और ट्रांसपोर्ट की व्यवस्था को सही बनाने के लिए खर्च किया…

Read more

हिमाचल प्रदेश को देवभूमि भी कहा जाता है। ऐसा इसलिए कहा जाता है क्योंकि यहां पर बहुत सारे देवी देवताओं के मंदिर है। जिनका अपना एक पुराना इतिहास है। यही कारण है कि हिमाचल प्रदेश अपनी वास्तु कला के लिए भी प्रसिद्ध है। वास्तु कला में हिमाचल प्रदेश को मंदिर की छत के आकार के आधार पर स्तूपाकार, शिखर, गुंबदाकार, पगौड़ा , बंदछत शैली और समतल शैली में बांटा गया है। 1) स्तूपाकार शैली Image Source इस शैली में बने अधिकतर मंदिर शिमला जिले में स्थित है। शिमला के हाटकोटी के राजेश्वरी मंदिर और शिव मंदिर को इस शैली मे बनाया गया है। जुब्बल क्षेत्र में अधिकतर मंदिर की शैली के बने हैं। ‌2) शिखर शैली   इस शैली से बने मंदिरों की छत का उपरी हिस्सा पर्वत की तरह चोटीनुमा होता है ।कांगड़ा जिले के बहुत से मंदिर इस शैली में बने हैं। कांगड़ा का मशहूर मसरूर रॉक कट मंदिर भी इसी शैली में बना है।…

Read more

भारतीय सेना में भर्ती के लिए होने वाली रैली केे एक दिन पहले आवेदकों के लिए बुरी खबर। दरअसल भर्ती टाल दिया गया है| Image Source शिमला के  जुन्गा के सरकारी स्कूल  में 10 से 19 जुलाई तक होने वाली भर्ती  रैली को स्थगित कर अब इसे सितंबर महीने में आयोजित किया जाएगा। Image Source सेना मुख्यालय के भर्ती निदेशक कर्नल वीएस सांखला ने इसकी जानकारी दी कि मौसम विभाग की चेतावनी के बाद यह कदम उठाया गया है। इसलिए अब भर्ती सितंबर में होगी। और कहा कि सितंबर के लिए निर्धारित तिथियों की घोषणा जल्द कर दी जाएगी। रजिस्टर्ड अभ्यर्थियों से अनुरोध है कि वे अपनी रजिस्टर्ड ई-मेल व भारतीय सेना की  वेबसाइट पर सितंबर मास में होने वाली भर्ती रैली की तिथियां देख लें। आप बाकी जानकारी के लिए दूरभाष नंबर 0177-2652804 पर संपर्क कर सकते है।

10/12