30 वर्ष बाद मणिमहेश में हजारों शिव भक्तों ने लगाई डुबकी, जानिए वजह

Image Source मणिमहेश में 30 वर्ष बाद हजारों शिव भक्तों ने पवित्र झील में डुबकी लगाई है। कृष्ण जन्माष्टमी के अवसर पर झील में श्रद्धालुओं ने स्नान किया। झील में स्नान करने के लिए पिछले 3 दिनों मे उमड़े शिव भक्तों के जत्थे ने मंगलवार को पवित्र व गर्म पानी में स्नान किया। धार्मिक मान्यता है की रात 12 बजे कृष्ण भगवान के जन्म होने के बाद इस स्नान का महत्व शुरू होता है जो मंगलवार शाम 7 बजे तक जारी रहेगा। दैनिक अखबार पंजाब केसरी के अनुसार 30 वर्षों…

Read More

रक्षाबंधन से जुड़ी 6 ऐतिहासिक तथा पौराणिक कथाएं जो शायद आपको मालूम ना हो

रक्षाबंधन या राखी एक हिंदू त्योहार है जो भारतीय उपमहाद्वीप के कई हिस्सों में मनाया जाता है, विशेषकर भारत और नेपाल में। रक्षाबंधन का अर्थ है “सुरक्षा का बंधन“। यह हिंदू कैलेंडर में श्रावण मास के पूर्णिमा दिवस पर मनाया जाता है, जो आमतौर पर ग्रेगोरी कैलेंडर के अगस्त माह में पड़ता है। यह त्योहार भाइयों और बहनों के बीच प्रेम और कर्तव्य को मनाता है। रक्षाबंधन पर, एक बहन अपनी समृद्धि और खुशी की प्रार्थना के साथ अपने भाई की कलाई पर एक राखी (पवित्र धागे) को बांधती है। यह बहन…

Read More

उत्तराखंड के इस गांव में हुआ था शिवजी और पार्वती का विवाह

त्रियुगीनारायण मंदिर के बारे में वेदों में उल्लेख भी मिलता है कि यह मंदिर त्रेतायुग से स्थापित है। माता पार्वती और भगवान शिवजी के विवाह के बारे में कई पौराणिक कथाएं हैं। ऐसी ही एक कथा उत्तराखण्ड के रूद्रप्रयाग जिले के त्रियुगीनारायण नाम के मंदिर से जुड़ी हुई है। Image Source इस मंदिर में एक ज्योति हमेशा जलती रहती है। स्थानीय लोगों की मान्यता के मुताबिक इस ज्योति के सामने ही भगवान शिवजी और माता पार्वती का विवाह हुआ था। मंदिर में जल रही इस ज्योति के बारे में कहा…

Read More

जानिए हिमाचल के मंदिरों की 6 विश्व प्रसिद्ध वास्तुकला के बारे मे

हिमाचल प्रदेश को देवभूमि भी कहा जाता है। ऐसा इसलिए कहा जाता है क्योंकि यहां पर बहुत सारे देवी देवताओं के मंदिर है। जिनका अपना एक पुराना इतिहास है। यही कारण है कि हिमाचल प्रदेश अपनी वास्तु कला के लिए भी प्रसिद्ध है। वास्तु कला में हिमाचल प्रदेश को मंदिर की छत के आकार के आधार पर स्तूपाकार, शिखर, गुंबदाकार, पगौड़ा , बंदछत शैली और समतल शैली में बांटा गया है। 1) स्तूपाकार शैली Image Source इस शैली में बने अधिकतर मंदिर शिमला जिले में स्थित है। शिमला के हाटकोटी के राजेश्वरी मंदिर और शिव मंदिर…

Read More

5 Places you must not miss on a trip to Kullu-Manali

This is Himalayas which literally the abode of snow. It is the last frontier king of all mountains. Here species have thrived and gone extinct, civilizations came and then destroyed, but mountains they have seen it all. The idea of travel should not just involve moving from one place to another. So let’s talk about “5 Places you must not miss on a trip to Kullu-Manali“. 1.Bijli mahadev temple Bijli mahadev temple is one of the oldest temple of Kullu valley dedicated to lord Shiva. Situated at a height of more than…

Read More

25 Facts about Kullu district that you probably don’t know

Kullu is a district in Himachal Pradesh, India. The district stretches from the village of Rampur in the south to the Rohtang Pass in the North. According to the 2011 census Kullu district has a population of 437,474, roughly equal to the nation of Malta. The district has a population density of 79 inhabitants per square kilometre (200/sq mi) . Its population growth rate over the decade 2001-2011 was 14.65%. Kullu has a sex ratio of 942 females for every 1000 males, and a literacy rate of 80.14%. Lets know about…

Read More

KamruNag: A paradise with a treasure worth billions

KamruNag is one of the best destinations in the Indian state of Himachal Pradesh . The place is less highlighted on National level but is an ideal place to trek. Surprisingly, Kamrunag is not even listed well in the official tourism websites of Himachal Pradesh. There are multiple reasons to visit this place and so lets talk about “KamruNag: A paradise with a treasure worth billions“.  “It is advisable to visit KamruNag during summers for one’s own safety as it experiences heavy snowfall during winters. The KamruNag lake is completely frozen in…

Read More

PaudiWala: the second ladder to Heaven built by Ravana

 Himachal Pradesh is called Devbhoomi which means “Land of God“. There are numerous temples and sacred places in this beautiful little heaven. Each village has their own deities whom they worship and they are considered in every crucial happenings. We will take you on a journey where we will talk about the popular and historically important religious places of Himachal Pradesh one by one. This time we will be talking about “PaudiWala: the second ladder to Heaven built by Ravana“. Mythological Significance: It is believed that once Lord Shiva bestowed…

Read More