fbpx

Category Archives: Environment

When we talk about tourism, we mostly see it as a thing which is full of positives. We see it as something which brings prosperity to a place. Something which provides locals with an opportunity to earn money and sustain and support their livelihood. When we see it from a traveler’s perspective we focus on them being able to experience a new place which they don’t usually get to see often. We normally think that it is a win-win situation for everyone involved. However, it is not the whole image. With several pros, it also brings tons of cons too. Cons, if we had to discuss are such as polluting the environment, ruining the normal lifestyle and traditions of a place and a run for the unsatisfying amount of money which never seems to be enough. You ask why do I say that? Okay, let me break it down for…

Read more

Woodscation is a brainchild of Baljeet Bhayana &  Harmanpreet singh. They started Woodcation because of their love for Himalayas and also for their passion of venturing into unexplored places.  Woodscation is a company working towards promotion of tourism in remote and unexplored regions with social objective of nature preserve (like to Travel and Volunteer ? Fill the form at the bottom) They organise treks to untouched beautiful valleys of Dhauladhar ranges. Which include treks like Nagdal, Kareri lake,Lumdal lake,Kalikund etc. which are surrounded with spectacular unobtructed view of the mountain ranges at altitude of above 5000m approximately  (8848 m is mountain Everest) with far-flung, snow-clad,dome-like enchanting peaks for the ones who wish to experience the true essence of  travelling with adventure. Woodscation is recently organising treks to a perfect elliptical glacial lake know as Kareri lake starting from 1st December to 3rd December followed by every weekend ending 17th December. What…

Read more

Image Source चीन सीमा से लगते हिमाचल प्रदेश के किन्नौर जिले के अति दुर्गम क्षेत्र में एक और सड़क तैयार की जा रही है। यह सड़क चीन सीमा तक पहुंच बनाने के लिए बनाई जा रही है। ठंगी से चारंग तक 20 km सड़क पर तेजी से काम चल रहा है। Image Source इंडो-चाइना बॉर्डर सड़क ICBR योजना के तहत इस सड़क को 2 लेन बनाया जा रहा हैं। इस सड़क के आखरी गांव चारंग से मात्र 10 किलोमीटर दूरी पर चीन सीमा है। इसके आगे जाने पर आईटीबीपी और सेना की पोस्ट तैनात हैं। Image Source इस सड़क  बनने से बड़ी राहत ग्रामीण लोगों के साथ साथ भारतीय सेना को भी मिलेगी । लोक निर्माण विभाग सड़क को चौड़ा करके पैराफिट का निर्माण किया हैं। और साथ ही ड्रेर्नेज सिस्टम को भी बनाया गया है।150 फीट लंबे बैली ब्रिज जो कि क्यारबू नाले पर बन कर तैयार हो चुका…

Read more

Image Source पहाड़ी इलाकों में हो रही भूस्खलन की घटनाओं को देखते हुए अब इन इलाकों का पता लगाने के लिए ड्रोन का सहारा लिया जाएगा। ऊंचाई वाले क्षेत्रों पर होने वाली हलचल पर अब ड्रोन से नजर रखी जाएगी। Image Source इन क्षेत्रों का पता लगाने के लिए अब सिर्फ सेटेलाइट से प्राप्त डाटा पर निर्भर नहीं रहना पड़ेगा। 3डी ड्रोन तकनीक भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान IIT मंडी के विशेषज्ञों ने विकसित की है। इस ड्रोन कि खास बात यह है कि यह ड्रोन कैसे भी मौसम में मैपिंग करने की क्षमता रखता है। यह भी पढ़े। गुजरात में पद्मावती फिल्म के रिलीज होने पर लगी रोक। जानिए क्या रहा कारण… Image Source IIT Mandi द्वारा विकसित इस ड्रोन में लगे उच्च तकनीक केवल HD के कैमरे से जनजातीय इलाकों की जानकारी मिलेगी। आपात स्थिति में प्रशासन को समय रहते सटीक जानकारी उपलब्ध होने से जानमाल का नुकसान कम करने में…

Read more

Image Source हिमाचल प्रदेश में पिछले कुछ दिनों से उपरी इलाकों  में लगातार बर्फबारी जारी है। लगातार बर्फबारी से रोहतांग दर्रा करीब तीन फीट तक बर्फ से ढक चुका है। यह इलाका अगले 6 महीनों तक दुनिया से बिल्कुल कत चुका है। Image Source sinhasougata ऊपरी इलाकों में जहां बर्फबारी का दौर जारी है। वहीं निचले इलाकों में बारिश का दौरी जारी है। प्रदेश के उपरी इलाकों में सुबह से ही फाहे गिरे, वहीं निचले इलाकों में बारिश का दौर चलता रहा। Image Source  यह भी पढ़े लाहौल-स्पीति जिले के बारे में वो 21 facts जो शायद आप नहीं जानते होंगे। Representative Image Source कुछ दिनों से हो रही बर्फबारी और बारिश से जहां प्रदेश में काफी पारा गिरा है। लेकिन अधिकतर इलाकों में दिन के बाद धूप ने दस्तक दे दी और मौसम साफ हो गया। मौसम विभाग के अनुसार  रविवार कोे प्रदेश में मौसम साफ रहने का अनुमान जताया…

Read more

Image Source  ब्रिक्स समूह ने हिमाचल प्रदेश की 31 पेयजल की लांबित स्कीमों को मंजूरी दी है। करीब तीन माह पहले भेजी गई इन 31 पेयजल स्कीमों के लिए 680 करोड़ रुपये स्वीकृत हुए हैं। हिमाचल प्रदेश में चुनाव के चलते अभी आचार संहिता लागू है। आचार संहिता खत्म होते ही हिमाचल प्रदेश सिंचाई एवं जनस्वास्थ्य विभाग इन सभी 31 पेयजल स्कीमों लिए टेंडर आमंत्रित करेगा। Image Source हिमाचल प्रदेश सिंचाई एवं जनस्वास्थ्य विभाग का मानना है कि इन स्कीमों के कार्यान्वित होने से हिमाचल प्रदेश के निचलेे मैदानी क्षेत्रों में पेयजल की समस्या काफी हद तक हल हो जाएगी । जब भी स्कीमों के टेंडर आमंत्रित किए जाएंगे तब ब्रिक्स समूह कुल राशि की 30 फीसदी बजट सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य विभाग को जारी करेगा और शेष बाकी बजट दूसरे चरण में जारी होगा। यह भी पढ़े। रोहतांग दर्रा अलगे साल तक गाड़ियों के लिए बंद। चंडीगढ़ में पारा…

Read more

रोहतांग दर्रे में बुधवार को इस सीजन की पहली बर्फबारी हुई, इस बर्फबारी के साथ ही अगले साल तक गाड़ियों के आने जाने के लिए रोहतांग दर्रा बंद कर दिया गया। पैदल यात्री और गुजरने वाले स्थानीय लोगों और पर्यटकों की सुरक्षा के मध्यनजर रखते हुए यहां दो बचाव चौकियां भी बना दी गई हैं। इन बचाव चौकियों में पुलिस और अन्य दस्तों के 9-9 कर्मचारी भी तैनात रहेंगे। लगाता समाचार पाने के लिए हमारे facebook group onehimachal से जुड़िए । Image Source @sinhasougata यह भी पढ़े। खुशखबरी: प्रदेश की पहली इलेक्ट्रिक बस ने पूरा किया अपना पहला कमर्शियल रन। जानिए किराया रूट  हिमाचल प्रदेश की चोटियों पर हुई ताजा बर्फबारी का असर निचले मैदानी इलाकों में बुधवार से ही दिखना शुरू हो गया। Image Source:- @no_watermarks पहाड़ों से आने वाली सर्द हवाओं से कोहरा के बादल कुछ कम हुए है। मौसम विभाग का कहना है कि सर्द हवाओं की वजह से…

Read more

चूड़धार पर्वत हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले में स्थित है। चूड़धार पर्वत समुद्र तल से 11965 फीट(3647 मीटर) की ऊंचाई पर स्थित है । यह पर्वत सिरमौर जिले और बाहय हिमालय(Outer Himalayas) की सबसे ऊंची चोटी है। सिरमौर ,चौपाल ,शिमला, सोलन उत्तराखंड के कुछ सीमावर्ती इलाकों के लोग इस पर्वत में धार्मिक आस्था रखते हैं। चूड़धार को श्री शिरगुल महाराज का स्थान माना जाता है। यहां शिरगुल महाराज का मंदिर भी स्थित है। शिरगुल महाराज सिरमौर व चौपाल के देवता है।  चूड़धार कैसे पहुंचा जाए ? चूड़धार पर्वत तक पहुंचने के दो रास्ते हैं। मुख्य रास्ता नौराधार से होकर जाता है तथा यहां से चूड़धार 14 किलोमीटर है। दूसरा रास्ता सराहन चौपाल से होकर गुजरता है। यहां से चूड़धार 6 किलोमीटर है। मंदिर से जुड़ी मान्यता इस मंदिर के बनने के पीछे एक पुराणिक कहानी जुड़ी है‌। मान्यता है कि एक बार चूरू नाम का शिव भक्त, अपने पुत्र के…

Read more

The western tragopan or western horned tragopan (Tragopan melanocephalus) is a medium-sized brightly plumed pheasant found along the Himalayas from north-eastern districts of Khyber Pakhtunkhwa province in northern Pakistan in the west to Uttarakhand within India to the east. They are known as “Jujurana” in Himachal Pradesh. So today we will share “10 facts about Jujurana: our state bird which is an endangered species“ 1) Our State animal Jujurana means “King of birds“. It was accorded the status of state bird of Himachal Pradesh in 2007. 2) The other name of the bird is western tragopan and is considered the rarest of all living pheasants. 3) The world population of Jujurana is estimated at fewer than 5,000 individuals, including a captive breeding population in Himachal Pradesh which numbered fewer than ten pairs in 2012. 4) CITES (the convention on International trade in endangered species of wild flora & fauna)has listed this species in Appendix I in order to discourage selling of its feathers. Representing the endemic bird…

Read more

हिमाचल प्रदेश में अब eco friendly  छोटे वाहन दौड़ेंगे। परिवहन निगम 50 छोटे इलेक्ट्रॉनिक वाहन खरीदने जा रहा है। ये जानकारी परिवहन मंत्री जीएस बाली ने दी। image source 8 सीटर ये छोटे वाहन शिमला, धर्मशाला समेत कई अन्य स्थानों पर दौड़ेंगे। शिमला में परिवहन निगम की बीओडी की बैठक में इसे हरी झंडी दे दी गई है। परिवहन मंत्री जीएस बाली ने बैठक के बाद इलेक्ट्रिक बसे खरीदने की घोषणा की। image source इन छोटे 50 इलेक्ट्रिक वाहनों की डिलीवरी डेढ़ माह में हो जाएगी। ये वाहन महिंद्रा एंड महिंद्रा से लिए जा रहे हैं। उन्होन कहा बाद में इन वाहनों का रोहतांग में भी ट्रायल किया जाएगा। परिवहन निगम ने निगम में करीब 1500 टीएमपीए को रोजगार दिया जाएगा। इसके लिए जल्द ही आगे की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। परिवहन मंत्री जीएस बाली ने कहा कि निगम में दो हजार टीएमपीए की कमी है और इस कमी…

Read more

10/18