जानिए हिमाचल के मंदिरों की 6 विश्व प्रसिद्ध वास्तुकला के बारे मे

हिमाचल प्रदेश को देवभूमि भी कहा जाता है। ऐसा
इसलिए कहा जाता है क्योंकि यहां पर बहुत सारे देवी देवताओं के मंदिर है। जिनका अपना एक पुराना इतिहास है। यही कारण है कि हिमाचल प्रदेश अपनी वास्तु कला के लिए भी प्रसिद्ध है। वास्तु कला में हिमाचल प्रदेश को मंदिर की छत के आकार के आधार पर स्तूपाकार, शिखर, गुंबदाकार, पगौड़ा , बंदछत शैली और समतल शैली में बांटा गया है।



1) स्तूपाकार शैली

Image Source

इस शैली में बने अधिकतर मंदिर शिमला जिले में स्थित है। शिमला के हाटकोटी के राजेश्वरी मंदिर और शिव मंदिर को इस शैली मे बनाया गया है। जुब्बल क्षेत्र में अधिकतर मंदिर की शैली के बने हैं।

‌2) शिखर शैली

 

इस शैली से बने मंदिरों की छत का उपरी हिस्सा पर्वत की तरह चोटीनुमा होता है ।कांगड़ा जिले के बहुत से मंदिर इस शैली में बने हैं। कांगड़ा का मशहूर मसरूर रॉक कट मंदिर भी इसी शैली में बना है। इस मंदिर को हिमाचल का एलोरा भी कहा जाता है।

3)गुम्बदाकार शैली

Image Source

‌इस प्रकार से बने मंदिरों पर मुगलों और सिक्ख शैली का प्रभाव रहा है। बिलासपुर का नैना देवी मंदिर, कांगड़ा का चिंतपूर्णी मंदिर ज्वालाजी मंदिर और बृजेश्वरी मंदिर इसी शैली से संबंधित है।

‌4) पगौड़ा शैली

Image Source

इस शैली में बने मंदिरो मे कुल्लू के हिडिंबा देवी मंदिर और मंडी का पराशर मंदिर प्रसिद्ध है।

5)बंदछत शैली

Image Source
बंदछत शैली हिमाचल प्रदेश की सबसे प्राचीनतम शैली है। छतराड़ी के शक्ति देवी मंदिर और भरमौर का लक्षणादेवी मंदिर की शैली में कहा जा सकता है।

6)समतल शैली

Image Source



इस शैली में छत समतल और दीवारों पर कांगड़ा शैली के चित्रों का चित्रण किया गया है। नूरपुर का ब्रिज स्वामी मंदिर, स्पीती के ताबो बौद्ध मठ, सुजानपुर टिहरा का नबर्देश्वर मंदिर इसी शैली के हैं। समतल शैली में मुख्य रूप से राम और कृष्ण मंदिर आते हैं।

दोस्तों आपको यह लेख कैसे लगा आप हमें  कमेंट में जरूर बताएं।

आप हमारे न्यूज़लेटर को सब्सक्राइब कर सकते हैं।

Facebook Comments

Related posts

Leave a Comment