हिमाचल प्रदेश के 1688 शिक्षकों की नौकरी खतरे में, जानिए क्या है वजह….

शिक्षकों की नौकरी खतरे में

Image Source

हिमाचल प्रदेश के 1688 अप्रशिक्षित शिक्षक जो सरकारी और निजी स्कूलों में शिक्षा प्रदान कर रहे है,उनकी नौकरी खतरे में पड़ गई है। दरअसल डिप्लोमा इन एलीमेंट्री एजूकेशन के लिए आवेदन करने वाले शिक्षकों की अभी तक वेरिफिकेशन नहीं हो पाई है ।



शिक्षकों की नौकरी खतरे में

Image Source

इन स्कूलों के प्रिंसिपलों को ऑनलाइन माध्यम से ही इस वेरिफिकेशन को करना था और प्रिंसिपलों के सुस्त रवैये के चलते अप्रशिक्षित शिक्षकों के भविष्य खतरे में पड़ गया हैं।



शिक्षकों की नौकरी खतरे में

यह भी पढ़े। हिमाचल और कश्मीर की लड़कियां क्यों होती हैं इतनी खूबसूरत…..

फिलहाल प्रारंभिक शिक्षा निदेशालय ने इन स्कूलों के प्रिंसिपलों को पत्र जारी कर 25 नवंबर तक हर हाल में वेरिफिकेशन करने के आदेश दिया हैं।

शिक्षकों की नौकरी खतरे में

Image Source

गौरतलब है कि केंद्र सरकार ने प्राइमरी कक्षाएं पढ़ाने के लिए शिक्षकों का डिप्लोमा इन एलीमेंट्री एजूकेशन (डीएलएड) करना अनिवार्य किया है।



31 मार्च 2019 के बाद सरकारी और निजी स्कूलों में डीएलएड किए बिना कोई भी शिक्षक प्राथमिक कक्षाओं को नहीं पढ़ा सकेगा।शिक्षकों की नौकरी खतरे में

Image Source

ताज़ा न्यूज और आर्टिकल्स पाने के लिए हमारे facebook page onehimachal से जुड़िए link



News Source Amarujala

यह भी पढ़े। शिमला आने वाले पर्यटकों के लिए खुशखबरी, रेलवे ने लिया यह बेहतरीन निर्णय…

 

Facebook Comments

Related posts

Leave a Comment