मलाना गांव में सभी गेस्ट हाउस और रेस्टोरेंट क्यों होंगे बंद जानिए पूरी खबर

हिमाचल प्रदेश में अपने प्रीमियम गुणवत्ता चरस के लिए प्रसिद्ध मलाना गांव के देवता जामलू के आदेश के बाद पर्यटकों के लिए बंद हो गया है स्थानीय संस्कृति और परंपराओं ‘की रक्षा के लिए’ सभी  गेस्ट हाउस और रेस्तरां को बंद करने ‘का आदेश दिया’।

मलाना गांव में सभी गेस्ट हाउस और रेस्टोरेंट

मालाना में ग्रामीण लोग एक चुनिंदा माध्यम के माध्यम से देवता ‘जामलू’ को आमंत्रित करते हैं
तब देवता किसी व्यक्ति के माध्यम से उन्हें बताता है कि उनका क्या कहना है। लोगों का मानना ​​है कि जामलू हर तरह के प्रश्नों का जवाब देता है।

मलाना गांव में सभी गेस्ट हाउस और रेस्टोरेंट

मलाना पंचायत प्रधान भाजी राम का यह कहना हें की “देवता यह नहीं चाहते कि कोई भी ग्रामीण गेस्ट हाउस और रेस्तरां चलाने के लिए अपनी संपत्ति किराए पर रखें। उन्होंने किसी को भी ऐसा करने से मना कर दिया है और जो लोग उनके आदेशों का उल्लंघन करते हैं उन्हें देवता के प्रकोप का सामना करना पड़ेगा”|



कुल्लू जिले के पर्यटन अधिकारी, रजनीश गौतम ने पुष्टि करते हुए कहा, “मुझे ज्ञात है कि देवता ने ग्रामीणों को गेस्ट हाउस चलाने से मना कर दिया है।” रेस्तरां और गेस्ट हाउस को कुल्लू जिलें में हिमाचल सरकार के पर्यटन विभाग के साथ पंजीकृत होना है।

Facebook Comments

Related posts

Leave a Comment