पीजीआई चंडीगढ़ फेफड़े[lungs] के ट्रांसप्लांट करने के लिए भारत का पहला सरकारी अस्पताल बना

पीजीआई चंडीगढ़ फेफड़े[lungs] के ट्रांसप्लांट
Image source

चंडीगढ़ की सबसे प्रतिष्ठित सरकारी अस्पताल पीजीआई में अनुभवी चिकित्सकों की एक टीम ने कुछ समय पहले ही अपने पहले फेफड़ों के ट्रांसप्लांट सर्जरी करके भारत की पहली सरकारी मेडिकल संस्थान बनकर चिकित्सा क्षेत्र में इतिहास बना लिया है। अभी तक केवल मुंबई और हैदराबाद के कुछ निजी मेडिकल संस्थानों ने 30 से 35 लाख रुपये की  लागत पर भारत में फेफड़े के ट्रांसप्लांट सर्जरी की है।
लेकिन पीजीआई (चंडीगढ़) ने सर्जरी को 7 से 10 लाख रुपये की लागत से सफलतापूर्वक पूरा किया है ‌और वह फेफड़ों के ट्रांसप्लांटिंग के किसी पूर्व अनुभव के बिना भी है। फेफड़े के प्रत्यारोपण की सर्जरी एक 33 वर्षीय महिला पर की गई है जो एक टर्मिनल फेफड़ों की बीमारी से पीड़ित है।


पीजीआई चंडीगढ़ फेफड़े[lungs] के ट्रांसप्लांट
Image source

फेफड़ों के ट्रांसप्लांटिंग की सर्जरी 20 अत्यधिक अनुभवी सर्जनों और डॉक्टरों की एक टीम द्वारा की गई, जो करीब 12 घंटे तक चली ।ज्ञात रहे चंडीगढ़ में विभिन्न राज्य के लोग इलाज के लिए आते हैं जिनमें ज्यादा लोग हिमाचल पंजाब हरियाणा और जम्मू कश्मीर के होते हैं। डॉक्टरों की टीम का नेतृत्व डॉ. राणा संदीप सिंह ने किया, पीजीआई के निदेशक, प्रोफेसर जगत राम, जो एक प्रतिष्ठित नेत्र शल्य चिकित्सक भी हैं, ने पीजीआईएमईआर के इतिहास में पहली बार सफल फेफड़े के प्रत्यारोपण सर्जरी के लिए डॉक्टरों की पूरी टीम का धन्यवाद किया है।

स्रोत: द ट्रिब्यून

Facebook Comments

Related posts

Leave a Comment